My story

पैसा बनाम ज़िन्दगी

उस दिन अरुण सर काफी गुस्से में दिख रहे थे। मैंने पहले कभी भी उन्हें इतना नाराज़ नहीं देखा था। अपनी मार्केटिंग टीम पर बहुत गुस्सा कर रहे थे। मैंने उनके साथ आज से लगभग ९ साल पहले भी काम किया था लेकिन तब के अरुण सर और आज के अरुण सर में बहुत अंतर […]

Read More
My story

श्यामली

श्यामली … माँ-बाबा ने जब ये नाम मेरे लिए चुना होगा, तब ये नहीं सोचा होगा की इस तरह से ये नाम मेरा जीवन बन जायेगा | आज भी जब वो दिन याद आता है, तो मन दहल जाता है | मैं उस समय १४ बरस की होंगी | रात का समय था, बाबा की […]

Read More
My story

चूड़ियाँ

राधिका चाय का कप लेकर बालकनी में गयी ही थी कि नीचे से आती एक आवाज ने उसका ध्यान अपनी और खींचा | राधिका ने ध्यान से देखा तो वो मीना ही थी | उसे देख कर राधिका बहुत खुश हुई | कुछ महीनो पहले मीना का पति राधिका की कॉलोनी में चूड़ियाँ बेचने आया […]

Read More
Back To Top